Thursday, March 12, 2015

निर्वासिता - कहानी अंश ( आधारशिला पत्रिका के फरवरी अंक २०१५ में प्रकाशित कहानी )


उसका पति फ़ौजी मदन सिंह जब भी छुट्टियों में घर आता, उसके लिए हमेशा मिठाई, किनारी वाली धोती और इंगूर लाता था। सांवली रंगत वाली, बुरांश के फूल सी खिली हुई, पहाड़ी झरने सी उछश्रृंखल और सुतवाँ नाक वाली खूबसूरत मोहिनी जब अपने तेल से भीगे काले बालों की लम्बी चोटी बनाती और मांग में मदन का लाया हुआ लाल इंगूर लगाती, टिकुली लगाती तो गाँव की सभी औरतों को उसके भाग से रश्क होने लगता। वे चुहल करती हुई कहती। "बड़ी भगवान् है रे माहि तू जो तुझे इतना प्यार करने वाला आदमी और इतने अच्छे घरवाले मिले ठहरे।"

"बोजी ( भाभी ) कोई तुम्हारी जैसी ही अपनी बहिन से हमारा भी जुगाड़ करा दो हो। हमारे भी भाग सुधर जाएँगे। जैसे मदन दा के सुधरे।" देवर लोग भी ठिठोली करते हुए उसे छेड़ते थे।

दोनों बड़ी शादी -शुदा ननदें भी अपनी प्यारी इकलौती भाभी पर खूब स्नेह बरसाती थीं। बड़ी ननद प्यार से भाई से कहतीं। "भुला तुम दोनों अच्छे से बने रहना। और हमें क्या चाहिए ठहरा। बस अब जल्दी से इस आँगन में कोई बाल -गोपाल खेलने आ जाता तो बड़ा अच्छा जैसा हो जाता। मैं तो गोल ज्यू के थान ( मंदिर ) में हाजरी लगा आती।"

अपने भाग्य को सराहती मोहिनी सभी से खूब बोलती, हँसती और हमेशा खुश रहती थी। सास अपने मिलने जुलने वालों और अन्य गाँव वालों से उसकी तारीफें करती रहती थी। कहती थी। 

"मेरी माही तो बहुती अच्छी है। इसके मुँह पर कभी अंतोष (असंतोष ) नहीं होता। हमेसा हँसने - बोलने वाली हुई सबसे। देबता सब को ऐसी ब्वारी दे सच्ची।"

दिन बीतते गए और उसकी शादी को तीन साल हो गए। अब तक कोई बाल -बच्चा न होना चिंता की वजह बनने लगा। गाँव वाले भी दबी जुबान में बातें करने लगे थे। सासज्यू ने एक दिन अति चिंतित होते हुए बेटे और बहू दोनों को शहर के बड़े डाक्टर के पास भेज दिया। दोनों की सभी तरह की जांच के बाद पता चला कि किसी अंदरुनी शारीरिक कमी की वजह से मोहिनी कभी माँ नहीं बन सकती। ऐसा सुनकर दोनों सन्न रह गए। मदन पर आसमान फट पड़ा। बस उसी दिन से मोहिनी की बसी -बसाई दुनिया हिल गई। किस्मत कब अपना फैसला बदल दे आज तक कोई नहीं जान सका। कल तक जो उसके अपने सगे बनते थे अब सब पराए हो गए थे। सभी ने उससे नजरें फेरनी शुरू कर दी। वो भी उस गलती के लिए जिसमें उसका रत्ती भर भी दोष नहीं था। अब सास………


Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...