Friday, February 13, 2015

Love Is In The Air


( रेस्त्रां में हुए अंग्रेज्जी वार्तालाप का हिन्दी अनुवाद )


'ओए तू कब बोलेगा मुझे? इस वैलेंटाइन पर बोल देगा न ?'

'क्या बोलना है ?'

'हट्ट..जाने दे.....तुझसे नहीं होगा।'  लड़की झुंझला कर बोली। 

'अरे यार बोलना जरूरी है क्या? अनकहे में जो आनंद और प्यार की टीस है उसको फील कर के देखो तो ज़रा'  लड़का संजीदगी से बोला 

'बाई गॉड.......इस बार किसी और ने कहा न मुझसे, तो मैं....फिर तू महसूसते रहना अपने सो काल्ड आनंद और टीस को '

' तू सीरियस है ?'

'और नहीं तो क्या? तीन साल हो गए। एक बार भी कहा तूने? बता....? मैं ही पागल हूँ, क्रेज़ी'  वह सुबकने लगी। 

'रो मत यार, देख इस बार पक्का कहूंगा। आई स्वेअर.... '

'अभी कह.... अभी'  खुशी की एक छोटी सी मुस्कराहट लड़की के चेहरे पर कौंध उठी। 

'अभी… अभी तो....कहा न पक्का कहूँगा कल' वो गोरा खरगोश जैसा बालक शर्मिंदगी और घबराहट से रेस्त्रां में गर्दन घुमा कर इधर-उधर देखने लगा। मैं उनकी बगल की टेबल पर बैठी थी। उसकी नज़र मुझ पर पड़ी तो झट अपनी कुर्सी छोड़ कर मेरी सामने वाली कुर्सी पर आ कर बैठ गया। शायद इस उम्मीद पर कि मैं उसकी पैरवी करूंगी। खाने में और प्रेम करने में जो शर्माया तो समझो उसके हाथ सिवा मलाल के और कुछ नहीं आने वाला। 

' देखिए ये रॉक्सी......' इससे पहले वो अपनी बात मेरे सामने रखता टिशू को अपनी आँखों पर फेरती हुई वो तेज तर्रार सी रॉक्सी मिनी स्कर्ट पहने और अपने स्टिलेटो ठकठकाती हुई मेरी बगल वाली कुर्सी घेर लेती है। सुगढ़ता से किये हुए मेकअप में बार्बी डॉल जैसी लग रही थी। मुझे इन मेकअप से सजी हुई लड़कियों को देखना बहुत भाता है। ये सब इनको कैसे आ जाता है? बैठने से पहले ही वह लड़के की बात काट कर अपना राग आलापने लगी।  

'यू नो....ही नेवर.......' उसकी शिकायतों का अंत नहीं था। तभी वेटर पूछने आ गया यदि किसी को कुछ और चाहिए तो बता दे। लड़की उसे आर्डर देने लगी। इतनी देर में मौके का फायदा उठा कर वह बालक झट से मेरे पास को झुक आया और धीमे स्वर में बोला। 

"आपने देखा न.... तीन साल से ये ऐसा ही करती है। मुझे बोलने का मौक़ा ही नहीं देती। फिर कहती है …"  इससे पहले वो अपनी बात पूरी करता। लड़की अपना ऑर्डर देने का काम पूरा कर चुकी थी। अति प्यार से लड़के का गाल खींचते हुए और प्रेम के अतिरेक में उसे चूमते हुए बोली  'माय पुअर बेबी....तीन शब्द बोलने का मौक़ा नहीं मिला तुझे कभी हम्म्म.....' 

कभी सोचती हूँ ये नई पीढ़ी ही ठीक है। अब वहां से मेरा चले जाना ही उचित था। जाते हुए मैं सोच रही थी यदि इस बार भी वो लड़का रॉक्सी से ' आइ लव यु ' नहीं बोल सका तो फिर वो बेबी क्या करेगा? वो पुअर बेबी....

फिर वो कहीं सच्ची पुअर न हो जाए। प्यार के आभाव में पुअर। कित्ता तो प्यारा था खरगोश जैसा। 

सभी के लिए दुआएं। प्रेम दुआ से कम नहीं। नसीब से मिलता है। उन सभी को प्रेम चतुर्दशी की बहुत शुभकामनाएं जो प्रेम में हैं। 

HAPPY VALENTINE DAY  !



Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...